प्रेगनेंसी में बाजरे की रोटी खा सकते हैं या नहीं | Eating Pearl Millets During Pregnancy

Share for who you care
Read this article in english

यह लेख प्रेगनेंसी में बाजरा (Pearl millets) खाने के बारे में है (Pregnancy me bajre ki roti kha sakte hain ya nahi)। बाजरा गर्म तासीर का होता है इसलिए हम गर्मी के मौसम में बाजरा या बाजरा से बनी कोई भी रेसिपी खाने की सलाह नहीं देंगे। लेकिन सर्दियों में गर्भावस्था के दौरान बाजरा या बाजरा खाने से क्या-क्या फायदे हो सकते हैं, यह समझना जरूरी है।

प्रेगनेंसी की यात्रा बहुत सारे उतार-चढ़ाव के साथ एक रोलर कोस्टर की सवारी हो सकती है। आप जो सबसे अच्छा रख सकते हैं वह है आपका आहार। तो आइए समझें कि बाजरा खाने से प्रेगनेंसी में क्या लाभ होंगे, गर्भ में शिशु को कैसे फायदे करेगा और कब आपको बाजरा का सेवन नहीं करना है।

बाजरा का पोषण मूल्य

सर्दियों के मौसम में बाजरा यानी बाजरा निश्चित रूप से आपके आहार में शामिल करने के लिए एक स्वस्थ विकल्प है। इसमें मैग्नीशियम, मैग्नीज, जिंक, आयरन, आवश्यक वसा, पोटेशियम, तांबा और फास्फोरस जैसे जबरदस्त पोषक तत्व पाए जाते हैं। ये सभी पोषक तत्व प्रेगनेंसी में आपके लिए और साथ ही गर्भ में शिशु के बेहतर विकास के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं।

गर्भकालीन मधुमेह का खतरा कम करें

प्रेगनेंसी में गर्भकालीन मधुमेह (pregnancy me diabetes) एक बड़ी समस्या है जो आपको हो सकती है। अगर आप पहले से ही मधुमेह के रोगी हैं तो मधुमेह की यह समस्या बढ़ सकती है। अब बाजरा आसानी से पचने वाले भोजन के रूप में काम करता है और यह आपके रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर बनाने में मदद करेगा।

पाचन में मदद करता है

बाजरा खाने का एक और फायदा आपके पाचन में होता है (pregnancy me constipation)। गर्भावस्था में आपको पाचन संबंधी विकार, एसिडिटी, सीने में जलन, कब्ज आदि जैसी कई समस्याएं देखने को मिलेंगी और बाजरे में अच्छी मात्रा में फाइबर होता है जो आपको पाचन से जुड़ी इन सभी समस्याओं से राहत दिलाएगा।

हीमोग्लोबिन लेवल बढ़ाता है

बाजरा में भी अच्छी मात्रा में आयरन होता है जो आरबीसी में हीमोग्लोबिन के स्तर को बनाने में मदद करेगा (pregnancy me khoon kaise badayein )और इस तरह आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया की संभावना को कम करेगा। संक्षेप में कहें तो यह आपके शरीर में खून बनाने के लिए अच्छा है ताकि आपको खून की कमी न हो।

इस तरह गर्भ में शिशु तक रक्त सही अनुपात में पहुंचता है। रक्त वह स्रोत है जिससे गर्भ के अंदर बच्चे को ऑक्सीजन, भोजन की आपूर्ति होती है जो वृद्धि और विकास के लिए जरूरी हैं ।

शिशु में जन्म दोषों को कम करने में मदद

बाजरे में फोलिक एसिड यानी फोलेट भी अच्छी मात्रा में पाया जाता है और गर्भावस्था के पहले तीन महीनों में फोलेट बेहद जरूरी होता है। यह बच्चे के तंत्रिका तंत्र के निर्माण, किसी भी प्रकार के जन्म दोष जैसे न्यूरल ट्यूब डिसऑर्डर (एनटीडी) (Neural Tube Disorder)और स्पाइना बिफिडा (Spina Bifida) आदि का जोखिम कम करेगा। फोलेट प्रेगनेंसी में बच्चे के मस्तिष्क के विकास के लिए भी अच्छा है।

बाजरा कब नहीं खाना चाहिए

अगर आप सर्दियों के दौरान बाजरा या बाजरा का सेवन करते हैं तो यह आपके लिए अच्छा है (pregnancy me bajra kab nahi khana chahiye)। गर्मी के मौसम में बाजरा खाने से बचें क्योंकि ये गर्म तासीर के होते हैं, ये गर्भाशय में संकुचन ला सकते हैं। इससे समय से पहले प्रसव हो सकता है और कुछ मामलों में गर्भपात भी हो सकता है।

लेकिन अगर सर्दियों का समय है तो विभिन्न व्यंजनों को अपनाना अच्छा है जैसे बाजरे से रोटी बनाना, गर्भवती महिलाओं के लिए बाजरे की खिचड़ी भी एक बहुत ही स्वस्थ विकल्प है।

हालाँकि, अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से पूछना ज़रूरी है क्योंकि हर गर्भावस्था अलग होती है, हर महिला अलग होती है, कुछ मामलों में आपको इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती है। यदि आपकी गर्भावस्था उच्च जोखिम वाली गर्भावस्था है या किसी अन्य कारण से, तो अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लेना हमेशा बेहतर होता है। अगर सब कुछ ठीक और सामान्य चल रहा है तो आपको निश्चित रूप से बाजरा खाना चाहिए।

निष्कर्ष

तो कुल मिलाकर हमने देखा है कि प्रेगनेंसी में बाजरा खाना आपके लिए बेहद फायदेमंद है क्योंकि यह आपके अंदर गर्भकालीन मधुमेह, अपच, खून की कमी जैसी समस्याओं का मुकाबला करेगा और बाजरे में पाए जाने वाले सभी पोषक तत्व आपके गर्भ में शिशु के विकास के लिए बेहद फायदेमंद हैं। गर्भ के अंदर भ्रूण का विकास अच्छे से होगा।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आती है, तो बेहतर पहुंच के लिए इस लेख को शेयर करें और यदि आप Garbhgyan.com पर पहली बार गर्भावस्था लेख पढ़ रहे हैं तो कृपया हमें सब्सक्राइब करें। हम यूट्यूब, इंस्टाग्राम और फेसबुक पर भी उपलब्ध हैं। धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *