गर्भ में शिशु कैसा महसूस करता है जब गर्भवती अपने पेट पे हाथ फेरती है | Traversing Hands on Baby Bump

Share for who you care
Read this article in english

प्रेगनेंसी में पेट पर हाथ फेरें या नहीं

गर्भ के अंदर बच्चे को कैसा लगता है जब माँ अपने पेट पर यह हाथ फेरती है या पेट के चारों ओर घुमाती है। क्या शिशु को यह पसंद आता है , क्या यह बच्चे के लिए अच्छा है। गर्भावस्था के किस महीने से गर्भवती महिला को यह करना चाहिए हम इस लेख में समझेंगे।

शिशु का माँ का हाथ फेरना किस महीने से समझ आने लगता है

जब गर्भवती महिला अपने पेट पर हाथ फेरती हैं , तो यह बच्चे के लिए एक तरह की स्पर्श चिकित्सा होती है. लगभग ५ से ६ महीने में शिशु में संवेदनशीलता विकसित हो चुकी होती है और उसका मस्तिष्क ठीक से काम कर रहा होता है. गर्भ में शिशु उन ध्वनियों को सुनने में सक्षम हो जाता है जो गर्भ के बाहर से आ रही होती हैं। इस समय तक शिशु पेट पर पड़ने वाले दबावों पर भी प्रतिक्रिया कर सकता है.

जब माँ पेट पर हाथ फेरती है तो शिशु को कैसा लगता है

गर्भ के अंदर बच्चा लगभग 5.5 महीने से हिलना शुरू कर देता है यानी लगभग पांचवे से छठे महीने के बीच बच्चा गर्भ में घूमना शुरू कर देता है। इस समय जब बच्चा इधर-उधर घूम रहा होता है और माँ अपने पेट पे हाथ फेरती है तो शिशु को सुरक्षित होने का एहसास होता है। शिशु को यह महसूस होने लगता है कि वहाँ उसके अलावा किसी और की उपस्थिति भी है और शिशु सहज महसूस करता है। इसलिए यह एक बहुत अच्छा अभ्यास है जो होने वाली माताओं और उनके शिशु के बीच एक बंधन और संबंध बनाना शुरू कर देता है।

Also Watch :

पेट पर हाथ फेरने के अलावा भी करें यह काम

इसके अलावा बच्चा आपकी आवाज सुन रहा होता है, आपके बच्चे के साथ संवाद करने से, डिलीवरी से पहले ही, आपको बच्चे के साथ एक बंधन बनाने में मदद मिलेगी। आप अच्छा संगीत भी सुन सकते हैं या फिर आप अच्छी पुस्तकें भी पढ़ सकते हैं। गर्भावस्था में आपकी मानसिक दशा शिशु के ऊपर समान प्रभाव डालती है।अच्छी पुस्तके, अच्छा संगीत आपको सकारात्मक बनाएंगी और बच्चे के ऊपर भी वैसा ही प्रभाव पड़ेगा।

 
30 मिनट्स रोज ये करने से बच्चा गर्भ में ही बुद्धिमान बनेगा

 

गर्भ संस्कार के अनुसार, गर्भ में बच्चे को आप बहुत सी चीजें सिखा सकते हैं। यदि आप कुछ अच्छा पढ़ रहे हैं तो बच्चा अच्छी चीजें सीख रहा होता है। यदि आप खुद को व्यस्त रखती हैं ऐसी गतिविधियों में जो आपको आपके आईक्यू को चुनौती देना का अवसर देते हैं , तो गर्भ में शिशु की मानसिक ताकत भी बढ़ती है, उसका आईक्यू(I.Q.) लेवल को अच्छा कर सकती हैं।

जितना समय मिले आप अपने शिशु से बात करने की कोशिश करें, पेट पर हाथ फेरें और पूरी गर्भावस्था में सकारात्मक रहे और निराशा को अपने पास न आने दें।

आशा है आपको यह लेख पसंद आया होगा, इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। ब्लॉग पर आने के लिए आपका बहुतबहुत धन्यवाद

गर्भ में शिशु कैसा महसूस करता है जब गर्भवती अपने पेट पे हाथ फेरती है, traversing hands on baby bump, moving hands over stomach during pregnancy, pregnancy me pet pe hath ferne se kya hota hai, garbh me shishu ko maa ka sparsh kaisa lagta hai, प्रेगनेंसी में पेट पर हाथ फेरें या नहीं , pregnancy me pait par haath fairein ya nahi 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *