प्रेगनेंसी में पानी कम पीने के भारी नुक्सान | Effects of dehydration during pregnancy

Share for who you care
Read this article in english

यह लेख गर्भवती महिलाओं के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह गर्भावस्था के दौरान पानी पीने से संबंधित है (Pregnancy me kitna paani peena chahiye)। पानी आपके शरीर के लिए सामान्य रूप से भी बहुत महत्वपूर्ण है, लेकिन जब आप गर्भवती होती हैं तो आपके लिए प्रतिदिन विशिष्ट मात्रा में पानी पीना बहुत ज्यादा जरूरी हो जाता है।

प्रेगनेंसी में आपका शरीर अतिरिक्त पानी की मांग करता है और गर्भ में बच्चे के विकास के लिए भी पानी अति आवश्यक है।

इस लेख में आप समझेंगे कि प्रेगनेंसी में आपको प्रतिदिन कितना पानी पीना चाहिए। अगर आप सही मात्रा में पानी नहीं पी रही हैं तो गर्भावस्था के दौरान आपको किन समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है और गर्भ में पल रहे बच्चे पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा।

प्रेगनेंसी में पानी का महत्व

गर्भावस्था के दौरान पानी पीना क्यों है बेहद जरूरी? आपके शरीर का जलयोजन बहुत आवश्यक है ताकि आपका चयापचय(metabolism ) प्रभावित न हो, आप कब्ज जैसी समस्या से प्रभावित न हों जिसके परिणामस्वरूप बवासीर, अपच और सूजन जैसी कई अन्य समस्याएं हो सकती हैं (pregnancy me kam paani peene se kya dikkat aati hai)।

साथ ही पर्याप्त पानी पीने से आपको ऊर्जा की कमी भी महसूस नहीं होगी, इससे शरीर में सूजन की समस्या भी दूर हो जाएगी।

अब यह तो गर्भवती महिलाओं के लिए है, लेकिन बच्चे और उसके विकास के लिए माँ में पानी की मात्रा बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यदि आप खुद को निर्जलित(dehydrate) कर रहे हैं तो एमनियोटिक थैली के अंदर एमनियोटिक द्रव कम हो सकता है (importance of drinking water during pregnancy)।

अगर इस समस्या को ऑलिगोहाइड्रामनिओस(oligohydramnios) के नाम से जाना जाता है (Pregnancy me body me paani ki kami)। इससे समय से पहले जन्म जैसी समस्या हो सकती है और कुछ मामलों में बच्चे का विकास ठीक से नहीं हो पाएगा और कुछ परेशानी भी हो सकती है।

इसके अलावा पानी आपके शरीर में विटामिन और खनिजों के अवशोषण(absorption) और आपके शरीर के तापमान को बनाए रखने के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। अगर आपके शरीर में पानी की कमी है तो आपको चक्कर आना, सिरदर्द जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

कुछ मामलों में तीसरी तिमाही में या गर्भावस्था के लगभग 34 से 37वें सप्ताह में, यदि आपका शरीर निर्जलित(dehydrated) है, तो आप संकुचन यानी ऐंठन और पेट दर्द की समस्या भी महसूस कर सकते हैं। तो ये सब बहुत ही अवांछित चीजें हैं जो आप गर्भावस्था के दौरान नहीं होना चाहतीं क्योंकि गर्भावस्था के दौरान आप पहले से ही कई अन्य समस्याओं का सामना कर रही होती हैं।

एक दिन में कितना पानी पिएं

गर्भावस्था में आपको कितना पानी पीना चाहिए ताकि सब कुछ ठीक रहे। आपको प्रतिदिन कम से कम 3 लीटर पानी पीना चाहिए (how much water to drink in pregnancy per day)। तो यह ऐसा है जैसे कि आप 8 से 10 गिलास पानी पी रहे हैं जो सभी गतिविधियों के लिए पर्याप्त है (pregnancy me ek din me kitna paani peena chahiye)।

अगर आप स्ट्रेचिंग, स्विमिंग, वॉकिंग जैसी कोई एक्सरसाइज कर रहे हैं तो ऐसे में आपको अतिरिक्त पानी पीने की भी जरूरत होती है। तो प्रतिदिन लगभग 3 लीटर से 4 लीटर पानी आपके लिए अच्छा है। आपके शरीर के समुचित कार्य के साथ-साथ बच्चे के विकास के लिए आपको हमेशा इतना ही पीना चाहिए।

निर्जलीकरण के लक्षण

अब आइए समझें कि आपको कैसे पता चलेगा कि आपका शरीर निर्जलित(dehydrated) है और आप प्रतिदिन सही मात्रा में पानी नहीं पी रहे हैं। आपको तत्काल संकेत आपके मूत्र का रंग से मिलेगा। आपके पेशाब का रंग हल्का पीला हो जाएगा (signs of dehydration in pregnancy), यह पहला संकेत है कि आप कम पानी पी रहे हैं। आपको तुरंत इस समय पे कम से कम एक बोतल पानी पी लेनी है (डिहाइड्रेशन)।

दूसरा, ऊर्जा की कमी महसूस होना, चिड़चिड़ापन महसूस होना, हृदय गति का बढ़ना, रक्तचाप कम होना और सांस लेने में समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है। तो अगर आप यह सब नोटिस कर रहे हैं तो यह स्पष्ट संकेत है कि आप अपने पानी के सेवन में कुछ गलत कर रहे हैं और आपको इसे बढ़ाना होगा।

शरीर को हाइड्रेट कैसे रखें

अब कुछ उपयोगी टिप्स कि आप पानी कैसे पी सकते हैं क्योंकि कई बार हर समय पानी पीना आपके लिए अच्छा नहीं होता है, यह काफी उबाऊ भी होता है (pregnancy me body ko hydrate kaise rakhein)। तो पानी का मतलब है कि आपको अपने शरीर को हाइड्रेटेड रखना है और यह काम आप फलों का जूस पीकर या ढेर सारे फल खाकर भी कर सकते हैं।

जिन फलों में पानी अच्छी मात्रा में होता है जैसे नारियल पानी बहुत अच्छा होता है (pregnancy me nariyal paani) , तरबूज में लगभग पानी होता है, संतरे, अंगूर जैसे फल आपको हमेशा खाने चाहिए और इनका जूस भी आपके लिए बहुत अच्छा होता है। इससे आपका शरीर हाइड्रेटेड रहेगा और साथ ही आपको भरपूर मात्रा में पोषण मिलेगा और गर्भ में पल रहे बच्चे का विकास ठीक से होगा।

तो यह सब पानी पीने और अपने शरीर को हाइड्रेटेड रखने के बारे में था, इससे आपको और बच्चे को लाभ मिलेगा। यदि आपको लगता है कि यह लेख कुछ अन्य लोगों के लिए भी महत्वपूर्ण है तो कृपया इसे उनके साथ साझा करें और यदि आप पहली बार हमारा ब्लॉग पढ़ रहे हैं तो हमें फ्री में सब्सक्राइब करें। Garbhgyan.com पर पढ़ने के लिए धन्यवाद

Queries covered: what happens when women drink less water during pregnancy, how much water to drink per day during pregnancy, importance of water intake during pregnancy, low amniotic fluid reason, how to keep your body hydrated, why water level in body is required during pregnancy, what to eat to increase water level in body during pregnancy, pregnancy me paani ki kami se kya pareshaani aati hai, pregnancy me paani kam peene ke nuksaan, pregnancy me ek din me kitna paani peena chahiye, garbhvastha me kam paani peene se garbh me bachche ko nuksaan , garbh me bachche ke achche vikaas ke liye pratidin kitna paani piyein, symptoms of dehydration during pregnancy, signs that shows you are drinking less water during pregnancy, pregnancy me paani ki kami se dikhenge ye lakshan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *