प्रेगनेंसी में नाशपाती खाने के नुक्सान और फायदे | What Happens To Baby In Womb After Eating Pears in Pregnancy

Share for who you care

इस लेख में आप जानेंगे कि गर्भावस्था के दौरान नाशपाती खाना कितना अच्छा है। क्या नाशपाती खाना गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए अच्छा है? प्रति दिन कितना नाशपाती खाना ठीक है। आइए गर्भावस्था के दौरान नाशपाती खाने के कुछ फायदों के बारे में जानें।

नाशपाती का पोषण मूल्य

नाशपाती में विटामिन-के, विटामिन-ए, विटामिन-सी, विटामिन-बी9 की अच्छी मात्रा होती है, साथ ही इसमें खनिजों की भी अच्छी मात्रा होती है। कैल्शियम, फास्फोरस, कोबाल्ट, आयोडीन, पोटेशियम, सल्फर, लोहा, जस्ता और तांबा। साथ ही इसमें महत्वपूर्ण तत्व जैसे की पेक्टिन, फाइबर और टैनिन भी पाए जाते हैं। 

गर्भावस्था के दौरान नाशपाती खाने के फायदे

कब्ज से राहत

नाशपाती में अच्छी मात्रा में फाइबर होता है जो आपको गर्भावस्था की  आम समस्या कब्ज में मदद करेगा। नाशपाती में पेक्टिन होता है जो एक तरह का घुलनशील फाइबर होता है जो आपको पाचन में मदद करेगा और आपकी कब्ज से राहत दिलाएगा। 

रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है

 नाशपाती में विटामिन-सी की अच्छी मात्रा होती है जो आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाएगी। विटामिन-सी मौसमी फ्लू, सर्दी और खांसी जैसे वायरल संक्रमणों से लड़ने की आपकी क्षमता को बढ़ाएगा।

दिल को स्वस्थ रखता है

नाशपाती में पोटेशियम की काफी मात्रा होती है जो आपके दिल के समुचित कार्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और हृदय संबंधी विकारों को दूर रखने में मदद करेगा। साथ ही पोटेशियम बच्चे के दिल के विकास और उसके कामकाज में मदद करेगा।

कोशिका स्तर पर पुनर्जनन

नाशपाती में कुछ गुण होते हैं जो गर्भावस्था के दौरान कोशिकाओं के पुनर्जनन में मदद करते हैं और जब बच्चा गर्भ के अंदर विकसित हो रहा होता है तो कोशिका पुनर्जनन एक अच्छी  भूमिका निभाता है। यह क्षतिग्रस्त कोशिका की मरम्मत करेगा और बच्चे की कोशिका निर्माण को बढ़ावा देगा।

बच्चे में जन्म दोषों को दूर रखता है

 नाशपाती में फोलेट की अच्छी मात्रा होती है जो गर्भ के अंदर बच्चे के प्रारंभिक विकास में मदद करेगा। गर्भावस्था के पहले, दूसरे और तीसरे महीने के पहले तिमाही के दौरान, बच्चे की प्रारंभिक संरचना जैसे मस्तिष्क, मांसपेशियों का विकास, हड्डियों और दांतों का विकास होता है। फोलिक एसिड इन अंगों की उचित विकास में एक अनिवार्य भूमिका निभाता है।

फोलिक एसिड  न्यूरल ट्यूब डिसऑर्डर (एनटीडी) और स्पाइनल बिफिडा जैसे जन्म दोषों को दूर रखने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, जिनकी संभावना पहली तिमाही में फोलिक एसिड की कमी के कारण अधिक होती है।

इसलिए आपके शरीर में फोलिक एसिड का सही स्तर होना बहुत जरूरी है जिसे आप अपने डॉक्टर द्वारा बताई गई गोलियों को खाकर प्राप्त कर सकते हैं और साथ ही यदि आप इसे प्राकृतिक रूप से लेना चाहते हैं, तो नाशपाती एक है अच्छा समाधान

जोड़ों और घुटने के दर्द से राहत

 नाशपाती जोड़ों के दर्द और घुटने के दर्द में भी मदद करती है क्योंकि इसमें कैल्शियम की मात्रा अच्छी होती है. गर्भावस्था के दौरान हड्डियों के कमजोर होने के कारण जोड़ों में दर्द बहुत आम है। गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर में कैल्शियम की कमी होती है क्योंकि बच्चे की हड्डियों और दांतों के विकास के लिए आवश्यक अधिकांश कैल्शियम आपके शरीर से जाता है। इस स्थिति में आपको घुटनों के दर्द,  हड्डियों में दर्द या जोड़ों के दर्द हो सकता है। नाशपाती खाने से आप इन समस्याओं को आसानी से दूर कर सकते हैं क्योंकि इसमें कैल्शियम की अच्छी मात्रा होती है। विकासशील बच्चे के दांतों और हड्डियों के लिए कैल्शियम बहुत महत्वपूर्ण है।

आपके शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करता है

नाशपाती में आपके शरीर को डिटॉक्स करने की क्षमता होती है क्योंकि इसमें टैनिन की अच्छी मात्रा होती है जो आपके शरीर से भारी धातुओं और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल देगा।

 सूजन की समस्या का समाधान 

गर्भावस्था के दौरान सूजन भी बहुत आम समस्या है। नाशपाती में ऐसे गुण होते हैं जो किडनी को आपके शरीर से अतिरिक्त पानी को बाहर निकालने के लिए बढ़ावा देते हैं जिससे जल प्रतिधारण की समस्या कम हो जाती है जो सूजन का मुख्य कारण है।

एनर्जी बूस्टर

नाशपाती खाने से आपकी ऊर्जा का स्तर बढ़ेगा क्योंकि इसमें कैलोरी की अच्छी मात्रा होती है। जिससे आपका शरीर पूरे दिन की गतिविधि के लिए सक्रिय रहता है और आप उत्साही बने रहेंगे।

वजन प्रबंधन में मदद करता है

नाशपाती में वसा की मात्रा बहुत कम होती है इसलिए यह आपके वजन प्रबंधन में भी मदद करेगी।

आयरन के अवशोषण में मदद करता है

  नाशपाती में विटामिन-सी की अच्छी मात्रा होती है, साथ ही इसमें कोबाल्ट भी होता है। कोबाल्ट और विटामिन-सी दोनों ही आपके खून में आयरन के अवशोषण में मदद करेंगे। आपके शरीर में आयरन के उचित अवशोषण से हीमोग्लोबिन (Hb Level) का स्तर अच्छा रहेगा और गर्भ में पल रहे बच्चे को ऑक्सीजन की आपूर्ति उचित होगी। साथ ही आयरन का अवशोषण आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया के जोखिम को कम करता है।

मिठाई की लालसा को दबाएं

 नाशपाती एक बहुत ही मीठा फल है। यह गर्भावस्था के दौरान कुछ मीठा खाने की आपकी लालसा को कम करने में भी मदद कर सकता है। प्रेग्नेंसी के दौरान अगर आपको वाइट शुगर खाने की क्रेविंग हो रही है तो यह अच्छा नहीं माना जाता है। फलों को खाकर मिठाई के लिए अपनी लालसा को शांत करना बेहतर होता है जिसमें फ्रक्टोज और ग्लूकोज जैसी प्राकृतिक चीनी होती है।

नाशपाती खाने से कब बचें

1. यदि आप मधुमेह या गर्भावधि मधुमेह से पीड़ित हैं, तो आपको नाशपाती खाने से पहले अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए क्योंकि यह एक मीठा फल है।

 2. यदि आपको पेट से संबंधित कोई भी विकार जैसे गैस्ट्रिक समस्या, सूजन या पेट में जलन हो रही है तो आपको नाशपाती खाना बंद कर देना चाहिए।

नाशपाती का सेवन लिमिट में करें

नाशपाती का सेवन अधिक करना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान प्रतिदिन एक नाशपाती आपके लिए अच्छी होती है। अगर आप इससे ज्यादा खा रहे हैं तो आपको पेट फूलना, कब्ज या पेट में जलन या दर्द जैसी समस्या हो सकती है।

ये है प्रेग्नेंसी के दौरान नाशपाती खाने की पूरी जानकारी। नाशपाती खाना आपके और गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए अच्छा है, लेकिन ज्यादा न खाएं और मधुमेह होने पर स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लें। इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद

Pears during pregnancy, pregnancy me naashpati khaye ya nahi, pregnancy me naashpaati khaane ke fayde, pregnancy me naashpati khane ke nuksaan , benefits of eating pears during pregnancy, pears during pregnancy good or bad, pears in pregnancy 2nd trimester in hindi, pears in pregnancy 3rd trimester in hindi, गर्भावस्था के दौरान नाशपाती के फायदे नुकसान, pears during pregnancy in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *