प्रेगनेंसी के दौरान यात्रा – किस महीने ट्रैवेलिंग नहीं करनी चाहिए

Share for who you care

प्रेगनेंसी के दौरान अगर आप यात्रा करना चाहती है, अगर आप babymoon की planning कर रही है या फिर कुछ लंबी यात्रा अगर आपको करनी है तो क्या ये प्रेगनेंसी के दौरान सुरक्षित होगा या नहीं।

प्रेगनेंसी के दौरान जिस तरीके से महिलाओं को अपने सोने का, उठने का, बैठने का, चलने का हर चीज का ध्यान रखना पड़ता है, अपना रख रखाव अच्छे से करना होता है खाने-पीने का विशेष ध्यान देना होता है, इसी तरीके से यात्रा करना भी इस समय काफी ज्यादा सावधानी भरा होना चाहिए। अगर आप इस दौरान कोई भी छोटी सी गलती कर लेंगे तो इससे आपको और साथ ही आपके गर्भ में पल रहे इस शिशु को किसी तरीके की दिक्कत हो सकती है।

कौन-कौन सी वो सावधानियां रखनी है
अगर आपकी प्रेगनेंसी बिल्कुल स्वस्थ चल रही है, आपके में किसी भी तरीके का कोई जटिलताएं नहीं है, तो आपको प्रेगनेंसी के दौरान यात्रा करने में कोई problem नहीं होती है। लेकिन मुश्किलें तब बढ़ जाती है जब आपका baby बंप बढ़ने लग जाता है। क्योंकि बढ़े हुए baby बम्ब के साथ यात्रा करना काफी ज्यादा मुश्किल हो जाता है।

पहली बात आपको इस दौरान अपना ट्रैवल पीरियड सही से चुनना चाहिए। प्रेगनेंसी के पहले, दूसरे और तीसरे महीने यानी कि प्रथम तिमाही (first trimester ) आपको बहुत ज्यादा problems होती है। छोटी-मोटी इतनी सारी problems आपके hormones
level में उतार-चढ़ाव की वजह से होने लगती है। ऐसे में आपको जी मचलाना, सिर दर्द होना, उल्टी होना, चक्कर आना, mood swing होना, थकान या फिर बार-बार पेशाब आना ये सारी समस्याएं लगातार बनी रहती है। ठीक इसी दौरान आपके गर्भ में भ्रूण बहुत ज्यादा छोटा और लचीला होता है। तो इसलिए ये जो समय होता है, कहीं ना कहीं risky time होता क्योंकि travel अगर आप करती है तो ऐसे में आपका baby को कहीं ना कहीं दिक्कत हो सकती है। तो pregnancy का जो First Trimester होता है इस दौरान यात्रा के लिहाज से बिल्कुल भी ठीक नहीं होता है।

अगर आपका प्रेगनेंसी का third trimester चल रहा है यानी कि सातवां, आठवां या फिर नौवां महीना अगर आपका चल रहा है। तो इस दौरान आपका baby बम्प बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। जिस वजह से आपको बहुत ज्यादा थकान लगती है, उठने-बैठने में बड़ी परेशानी होने लगती और चलने में भी आपको दिक्कत होती है, बहुत देर तक आप नहीं बैठ पाती हैं, तो प्रेगनेंसी के third trimester में भी यात्रा करना avoid करना चाहिए।

लेकिन अगर आपका प्रेगनेंसी का second trimester चल रहा है, यानी कि चौथा, पांचवा, या फिर छठवां महीना चल रहा है तो आप प्रेगनेंसी के दौरान यात्रा कर सकती हैं। ये काफी ज्यादा सुरक्षित समय होता है, इस समय पे गर्भवती महिलाओं को कम से कम दिक्कतों का सामना करना होता है और इस time तक baby bump भी महिलाओं का बहुत बढ़ा हुआ नहीं होता है। तो यात्रा अगर आप करना चाहते हैं, आपका कहीं घूमने का मन है तो आप इसी दौरान घूमिएगा, दुसरे तिमाही को ही चुनियेगा।

दूसरी चीज ये मायने रखता है कि आपका गंतव्य (destination) क्या है?
अगर आप कहीं घूमने के लिहाज से जा रहे हैं तो आपको बहुत सारी चीजें इस दौरान ध्यान में रखनी है। पहली चीज आपको इस दौरान hilly area को avoid करना है।
दूसरी चीज दोस्तों दौरान उस जगह पे ही जाना prefer करें जहाँ का पानी साफ हो, जहाँ की हवा साफ हो, जहाँ पे बीमारियों का खतरा ना हो और आसपास डॉक्टर या फिर हॉस्पिटल्स available हो।
ऐसी जगह का चुनाव करिए और ध्यान रखिए कि आपको किसी भी सुनसान या फिर शांत, अकेली जगह पर आपको नहीं जाना है।
तीसरा इस बात का ध्यान रखें कि जहाँ पे आप जा रहे हों अपने साथ खाने-पीने का सामान (snacks) और पानी या फिर कोई भी liquid item आपको भरपूर मात्रा में रखना है। क्योंकि प्रेगनेंसी के जैसे कि महिलाओं को बार-बार पेशाब लगती है, तो प्यास लगने लगती है, तो ऐसे में आपको अपने साथ health drinks रखने हैं। अपने साथ पानी रखना है। घर से बना हुआ healthy snacks इस दौरान अपने लिए carry करें।

आपकी यात्रा का माध्यम क्या है? क्या आप फ्लाइट से जा रहे हैं? क्या आप ट्रेन से जा रहे हैं, कार से जा रहे हैं?
आप अगर फ्लाइट से जा रहे हैं या फिर ट्रेन से जा रहे हैं, तो pregnancy के छत्तीसवें हफ्ते के बाद आपको फ्लाइट या फिर ट्रेन से यात्रा नहीं करनी चाहिए। क्योंकि इसके बाद जो है डिलीवरी का समय आ जाता है ऐसे में काफी अनिश्चितता होती है। Delivery period पास में होता है, कभी भी delivery होने वाली होती है।

एक खास महत्वपूर्ण चीज और कि travel करने से पहले आप अपने doctor का approval जरूर लें। अगर आपकी डॉक्टर आपको यात्रा करने के लिए approve करती है तो ही आपको यात्रा करनी चाहिए। साथ ही ध्यान रखिए कि medical kit आपको अपने साथ जरूर रखना चाहिए और अपनी दवाइयां हैं वो आपको अपने साथ जरूर ले जानी है और नियमित तौर पे इनका सेवन करना है ।

अपने डॉक्टर का contact नंबर आपके पास होना बहुत ज्यादा जरूरी है और अंत में इस बात का ध्यान रखिए कि आपको travelling के दौरान कम से कम सामान रखना चाहिए क्योंकि pregnancy के दौरान अगर आपको सामान उठाना भी पड़ गया तो आपका सामान बहुत ज्यादा भारी नहीं होना चाहिए क्योंकि भारी-भरकम चीजें pregnancy के दौरान आपको उठाना जोखिम भरा हो सकता है। तो ये सारी बातें हैं pregnancy के दौरान आप कब यात्रा करनी है? क्या-क्या सावधानियां रखनी है?

आशा करते हैं आपको यह लेख पसंद आया होगा, लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। ब्लॉग को पढ़ने के लिए, समझने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

Travelling during pregnancy, is travelling safe during pregnancy, what happens when pregnant women travels , is it ok to take flight during pregnancy, pregnancy me kab car me nahi baithna chahiye , pregnancy me bus ka safar kare ya nahi , pregnancy mein yaatra karne se kya hota hai , garbh me shishu ke liye kya train yaatra surakshit hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *