प्रेगनेंसी में पालक खाएं या नहीं | Eating Spinach During Pregnancy

Share for who you care
Read this article in english

इस लेख में हम प्रेगनेंसी में पालक खाने के बारे में समझेंगे। गर्भावस्था के दौरान हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, मेथी, दिल के पत्ते का सेवन आपके लिए बहुत फायदेमंद होता है। ये हरी पत्तेदार सब्जियां आपके गर्भ में पल रहे बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बेहद फायदेमंद होती हैं(Spinach during pregnancy)।

पालक के पोषक तत्व

आइए समझें कि पालक में क्या-क्या पोषक तत्व पाए जाते हैं(Nutritional value in spinach)। पालक आयरन, फोलिक एसिड (फोलेट), विटामिन-ए, बी, सी और ई से भरपूर होता है। इसके अलावा इसमें पोटेशियम, सोडियम, मैग्नीशियम और फास्फोरस भी अच्छी मात्रा में पाया जाता है।

पालक मूलतः दो रंगों में आती है। एक को लाल पालक के नाम से जाना जाता है और दूसरे को हरे रंग में व्यापक रूप से देखा और जाना जाता है। ये दोनों प्रकार के पालक आपके और आपके बच्चे के लिए अच्छे हैं(pregnancy me palak khaye ya nahi)।

गर्भ में शिशु को जन्मदोष से बचाव

पालक में फोलेट और आयरन की मात्रा बहुत अच्छी होती है। जब आप गर्भावस्था के शुरुआती महीनों में हों तो ये दोनों तत्व काफी महत्वपूर्ण होते हैं।

जैसे कि पहली तिमाही के दौरान यानी पहले से तीसरे महीने के बीच। इस अवधि के दौरान, शरीर को अच्छी मात्रा में आयरन और फोलेट की आवश्यकता होती है, ताकि बच्चे में किसी भी जन्म दोष को दूर रखा जा सके।

फोलेट और आयरन भी बच्चे में न्यूरल ट्यूब डिसऑर्डर (एनटीडी) को दूर रखने में मदद करते हैं, इन दोनों पोषक तत्वों की कमी से गर्भपात हो सकता है या प्रारंभिक अवस्था में बच्चे में कोई दोष हो सकता है।

आँखों की रौशनी और रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाता है

नंबर दूसरा बिंदु आपकी दृष्टि और प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन है। पालक में विटामिन-ए, सी और ई की अच्छी मात्रा होने के कारण यह उन सभी पोषक तत्वों का बहुत अच्छा स्रोत है जो आपकी आंखों की रोशनी को बढ़ाने के लिए आवश्यक हैं।

गर्भावस्था के दौरान आंखों की रोशनी का कमजोर होना काफी सामान्य है, आपकी आंखों की रोशनी या दृष्टि कम हो जाती है। तो इसे बढ़ावा देने के लिए अगर आप पालक खा रहे हैं तो यह एक बहुत ही प्राकृतिक उपाय है।

इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान आपमें ऊर्जा की काफी कमी हो जाती है, आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत कमजोर हो जाती है। तो पालक में मौजूद विटामिन-सी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाने में मदद करेगा।

शरीर में रक्त की गुणवत्ता बढ़ाता है

अगला आपके रक्त की मात्रा को विनियमित करने के बारे में है। यह बिल्कुल सामान्य है कि गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला में रक्त की मात्रा लगभग 40% बढ़ जाती है। इसके साथ ही आपको फोलेट और आयरन जैसे पोषक तत्वों की अधिक आवश्यकता होती है और यह पालक में बहुत अच्छी तरह से मौजूद होता है।

हीमोग्लोबिन की कमी दूर करता है

साथ ही पालक में मौजूद आयरन की मात्रा यह सुनिश्चित करेगी कि आपके शरीर में आयरन और हीमोग्लोबिन की कमी न हो। 

यह एक बहुत ही आम समस्या है जो गर्भवती महिलाओं के साथ होती है।

साथ ही इससे यह भी सुनिश्चित हो जाएगा कि आपके शरीर को पर्याप्त मात्रा में रक्त मिल रहा है क्योंकि रक्त ही शिशु को आपूर्ति किए जाने वाले पोषक तत्वों और ऑक्सीजन का मुख्य स्रोत है। तो इस तरह से आपको एनीमिया नहीं होगा और गर्भ में बच्चे का विकास भी ठीक से हो सकेगा।

प्रसव के समय रक्त की अच्छी मात्रा यह सुनिश्चित करेगी कि आपकी सामान्य डिलीवरी आसानी से हो सके।

रक्तचाप नियंत्रित करता है

अब गर्भावस्था के दौरान पालक खाने का अगला फायदा यह है कि इसमें अच्छी मात्रा में पोटैशियम पाया जाता है। इससे रक्तचाप को नियंत्रण में रखने में मदद मिलेगी और गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्तचाप की संभावना भी कम हो जाएगी।

पालक का एक अन्य लाभ आपके तनाव के स्तर को बनाए रखने या उच्च रक्तचाप को कम करने में है। साथ ही मूड में बदलाव की संभावना भी कम हो जाती है।

दिमागी संतुलन बनाये रखने में मददगार

तो ये चीजें गर्भावस्था के दौरान काफी आम हैं और ये गर्भावस्था के हार्मोन के कारण हो रही हैं जो आपके शरीर में बन रहे हैं या कम हो रहे हैं और जिसके कारण आप अक्सर मूड में बदलाव, तनाव, चिंता और तनाव आदि का अनुभव करेंगे।

चूंकि पालक में विटामिन-बी बहुत अच्छा होता है, खासकर बी6 घटक काफी अच्छा होता है, यह आपके मानसिक स्तर को बढ़ावा देगा और मूड स्थिरता को बढ़ावा देगा और तनाव कम करेगा।

पालक में मौजूद विटामिन बी6 आपके शरीर में न्यूरो ट्रांसमीटर के उत्पादन में बहुत सहायक होता है जो उच्च रक्तचाप, तनाव और मूड स्विंग की समस्या का ख्याल रखेगा।

एक दिन में कितना पालक खाएं

आइए अब इन सभी फायदों के साथ समझते हैं कि आपको प्रति दिन कितना पालक खाना चाहिए क्योंकि गर्भावस्था के दौरान संयम सबसे महत्वपूर्ण है। जो आपके लिए फायदेमंद है उसे आप जरूरत से ज्यादा नहीं खा सकते और यही बात पालक के साथ भी लागू होती है।

हालांकि पालक पोषण का पावरहाउस है लेकिन इसकी मात्रा को समझना काफी महत्वपूर्ण है। इसलिए अगर आप पालक का सेवन लिमिट में कर रहे हैं तो यह आपके लिए अच्छा है।

आपको प्रतिदिन आधा कप से अधिक पालक का सेवन नहीं करना चाहिए और इसे रोजाना भी नहीं खाना चाहिए। आप वैकल्पिक दिनों में पालक खा सकते हैं।

प्रेगनेंसी में पालक कब न खाएं

पालक का अधिक सेवन करने से कब्ज की समस्या हो सकती है और कुछ मामलों में यह किडनी में पथरी का कारण भी बन सकता है। इसलिए यदि आप पहले से ही इन दोनों समस्याओं से पीड़ित हैं, तो कृपया गर्भावस्था के दौरान पालक खाने से बचें।

जब आप इन सभी संयम और सावधानियों को समझ जाएंगी, तो आप गर्भावस्था के दौरान अपने आहार में पालक का आनंद ले सकती हैं। आशा है कि आप उन मुख्य बिंदुओं को समझ गए होंगे जिन्हें हमने इस लेख में शामिल किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *