चीनी की बजाये गुड़ खाने के लाभ आपको हैरान कर देंगे – सर्दियों में तो जरूर खाएं गुड़

Share for who you care
Read this article in english

गुड़ का उपयोग पारंपरिक रूप से प्राकृतिक स्वीटनर के रूप में किया जाता है (Benefits of eating jaggery)। गुड़ सफेद चीनी की तरह गन्ने से बनाया जाता है। लेकिन सफेद चीनी पूरी तरह से परिष्कृत(refined) होती है जबकि गुड़ कम परिष्कृत होता है। आयुर्वेद के अनुसार, गुड़ में गर्म गुण होते हैं और यह गर्मी और तुरंत ऊर्जा पैदा करता है। इसलिए सर्दियों के मौसम में गुड़ का सेवन करना हमेशा बेहतर होता है। गुड़ वात दोष को संतुलित करने के लिए भी अच्छा है।

पोषण मूल्य तुलना

यदि आप गुड़ को पोषण की दृष्टि से देखें तो इसमें चीनी जैसे अन्य मिठास की तुलना में अधिक मूल्य और औषधीय गुण हैं।

गुड़ परिष्कृत चीनी (refined sugar ) का एक प्राकृतिक विकल्प है। गुड़ के अंदर आयरन, पोटैशियम, मैग्नीशियम, विटामिन सी, कैल्शियम, विटामिन बी-1, बी-6 पाया जाता है।

अगर हम इसकी तुलना सफेद चीनी से करें तो रिफाइंड चीनी में सिर्फ कैलोरी होती है। रिफाइंड चीनी में कोई विटामिन नहीं, कोई प्रोटीन नहीं, कोई आयरन नहीं, कैलोरी के अलावा कुछ भी नहीं है। तो ऐसे में गुड़ चीनी से कहीं ज्यादा बेहतर है।

तो अगर हम इसकी तुलना चीनी से करें तो गुड़ से हमें कई फायदे मिलते हैं जो हमें चीनी से नहीं मिलते (Cheeni ki jagah gud khaane ke fayde)।

गुड़ के स्वास्थ्य लाभ

गुड़ में कई फेनोलिक यौगिक (Fanolic compounds) भी पाए जाते हैं और ये हमारे शरीर के अंदर ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने और हमारी प्रतिरक्षा(Immunity) को बढ़ाने का काम करते हैं।

भोजन के बाद 10 ग्राम गुड़ का सेवन करने से आपको आयरन और खनिज मिलते हैं जिनकी आपके शरीर को पूरे दिन आवश्यकता होती है।

गुड़ हमारे पाचन को भी बेहतर बनाता है और शरीर से कई विषैले पदार्थों को बाहर निकालने का काम करता है। दोपहर के भोजन के बाद गुड़ का एक टुकड़ा खाने से एसिडिटी और पेट फूलने की समस्या से राहत मिलती है।

गुड़ में मौजूद सोडियम और पोटैशियम ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता है।

सर्दियों में गुड़ का दर्द निवारक गुण होता है, इससे जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है।

अगर आप सर्दी-खांसी से पीड़ित हैं तो रात को सोने से पहले गुड़ का एक छोटा टुकड़ा खाएं और गर्म दूध पिएं।

आयुर्वेद के अनुसार, गुड़ श्वसन संबंधी विकारों (Respiratory disorders) के इलाज के लिए एक उत्कृष्ट उपाय है। इसमें एंटी-एलर्जी गुण है, यह श्वसन पथ से विषाक्त पदार्थों और किसी भी बलगम को बाहर निकालता है। यह अस्थमा और कंजेशन के इलाज में मदद करता है।

जब भी आपको दिन में कमजोरी या थकान महसूस हो तो गुड़ खाएं क्योंकि यह आपके शरीर में ऊर्जा बढ़ाता है

रोजाना गुड़ का एक छोटा टुकड़ा खाकर आप कई तरह की एलर्जी से खुद को बचा सकते हैं।

गुड़ के सेवन से आंखों की रोशनी बढ़ती है क्योंकि इसमें विटामिन-ए होता है।

गुड़ के नियमित सेवन से शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और सर्दियों में त्वचा स्वस्थ और चमकदार रहती है।

गुड़ में भरपूर मात्रा में आयरन होता है। रोजाना गुड़ का सेवन एनीमिया से बचाता है

गुड़ और घी एक साथ खाने से कान का दर्द कम हो जाता है।

अब जब हमने गुड़ के इतने सारे फायदे देख लिए हैं तो अब हमें यह भी जान लेना चाहिए कि कौन सा गुड़ खाना सबसे अच्छा है।

हल्के रंग के गुड़ के बजाय गहरे और पुराने गुड़ का चयन करें, जो संभवतः रसायनों से उपचारित हो सकता है।

अब बात करते हैं कि क्या आप वाकई चीनी की जगह गुड़ का इस्तेमाल कर सकते हैं। यदि हम चीनी के स्थान पर गुड़ का उपयोग करते हैं, तो अधिक पौष्टिक होने के अलावा क्या इसके कोई अतिरिक्त लाभ हैं? हमें यह समझने की जरूरत है कि गुड़ और चीनी में क्या अंतर है।

कैलोरी सामग्री तुलना

जब आप दोनों की कैलोरी की तुलना करते हैं, तो रिफाइंड चीनी और गुड़ में समान कैलोरी होती है। एक चम्मच पिसे हुए गुड़ में आपको लगभग उतनी ही कैलोरी मिलेगी जितनी आपको एक चम्मच सफेद चीनी में मिलेगी। तो चूंकि इसमें कैलोरी की मात्रा समान होती है, इसलिए गुड़ का उपयोग करने से आपको कैलोरी के मामले में कोई लाभ नहीं मिलेगा।

यदि गुड़ की तुलना चीनी से की जाए तो गुड़ में मिठास कम होती है। तो अगर आप चाय में एक चम्मच चीनी लेते हैं तो वही मिठास पाने के लिए आपको लगभग दो से तीन चम्मच गुड़ मिलाना होगा। इसलिए चीनी की जगह गुड़ का सेवन करने से आप अधिक कैलोरी का सेवन करेंगे।

आपको पोषण मूल्य तो मिल रहा है लेकिन यह बहुत कम मात्रा में है क्योंकि गुड़ आपको अधिक कैलोरी देगा और आपको मोटा बना सकता है। इसलिए चीनी की जगह गुड़ का सेवन तभी फायदेमंद होगा जब आप गुड़ सीमित मात्रा में खा रहे हों।

क्या गुड़ मधुमेह के लिए अच्छा है

एक अच्छी बात जो आपको जाननी चाहिए वह यह है कि गुड़ के अंदर मौजूद कार्बोहाइड्रेट काफी जटिल होते हैं, इसमें लंबी श्रृंखला वाले कार्बोहाइड्रेट (long-chain carbohydrates) होते हैं। इन लंबी श्रृंखला वाले कार्बोहाइड्रेट को पचने में समय लगता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि यह परिष्कृत रूप में नहीं होता है इसलिए यह हमारे पेट में ही पच जाता है और तुरंत रक्त में प्रवेश नहीं करता है।

इसे पचने और रक्त में प्रवेश करने में भी कुछ समय लगता है। तो इससे आपको यह फायदा होता है कि आपका ब्लड शुगर अचानक से नहीं बढ़ता है। उदाहरण के लिए, अगर आप चीनी खाते हैं तो इसे खाते ही आपका ब्लड शुगर लेवल अचानक बढ़ जाता है, फिर अचानक इंसुलिन आने लगता है और फिर ब्लड शुगर लेवल अचानक कम हो जाता है। जो आपके लिए बहुत बुरा है, यह आपके अंदर इंसुलिन प्रतिरोध पैदा करता है।

अब क्योंकि गुड़ में अच्छे जटिल कार्बोहाइड्रेट(complex carbohydrates) होते हैं, उन्हें पचने में अधिक समय लगता है, उन्हें रक्त प्रवाह में अवशोषित होने में अधिक समय लगता है। धीरे-धीरे अवशोषित होने के कारण, आपका रक्त शर्करा तुरंत नहीं बढ़ता है। यह आपके इंसुलिन लेवल को बनाए रखता है। भविष्य में आपको मधुमेह होने का खतरा थोड़ा कम हो जाता है।

तो गुड़ का उपयोग करने से आपको यह लाभ मिलता है क्योंकि यह अपरिष्कृत रूप है। अपने आहार पैटर्न में कोई भी बदलाव करने से पहले हमेशा अपने स्वास्थ्य प्रदाता से परामर्श लें। Garbhgyan.com पर इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *